ताजा प्रविष्ठियां

Tuesday, September 7, 2010

इन हालातों में....

कोई भी राजनितिक दल देश को इन हालातों से उबारने में सक्षम नहीं दीखता, जिस तरह रेगिस्तान में मरीचिका के धोखे में कोई भी प्राणी भटकता रहता है वही हाल आज के भारतीय का है | चाहे वह किसी भी पार्टी को समर्थन करता हो, उसे पता होता है कि; इस पार्टी वाले भी कुछ नहीं कर सकते फिर भी वह उनके द्वारा बनायीं मरीचिका में फंसता है और अपनी हैसियत के अनुसार लालच में उलझ कर उन्हें ही वोट दे देता है | चाहे भूखे नंगे हों या आवश्यकता से अधिक का भोग करने वाले, सबका यही हाल है | इसमें साधारण आदमी जो वास्तविक (देश के भले के लिए वोट करने वाला) वोटर होता है उसका कुछ वस नहीं चलता | क्योंकि सभी राजनितिक दलों की वैसी ही स्थिति है जैसे एक नागनाथ है तो दूसरा सांपनाथ, कोई भेड़िया है तो कोई शेर | इसलिए इस व्यवस्था में तो कुछ नहीं हो सकताइसके लिए तो व्यवस्था परिवर्तन ही होना चाहिए दोबारा से आजादी का आन्दोलन...... और कुछ नहीं

1 comment:

  1. बिलकुल सही कहा आपने

    ReplyDelete

हिन्दी में कमेंट्स लिखने के लिए साइड-बार में दिए गए लिंक का प्रयोग करें