ताजा प्रविष्ठियां

Thursday, June 18, 2009

मेरी पहली पोस्ट

१. ऐसी बानी बोलीए, मन में चिंता होए ,

औरन को चिंतित करे, आपहू चिंतित होए ॥

२. बेईमानी ईतनी कीजिए, कई पीढियां तर जाएँ ,

अगला जन्म किसने देखा, चाहे केंचुआ बन जाएँ ॥

ये मेरी सबसे पहली पोस्ट थी कैसी लगी अवश्य बताईयेगा ,धन्यवाद

2 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. पोस्ट तो अच्छी लगी।लेकिन पढ़ कर चिंता सताने लगी है।:))

    ReplyDelete

हिन्दी में कमेंट्स लिखने के लिए साइड-बार में दिए गए लिंक का प्रयोग करें