ताजा प्रविष्ठियां

Thursday, February 26, 2009

सुखराम को सजा

सुखराम को सजा !(अस्सी की उम्र में, तेरह साल मुक़दमे के बाद)
वो भी तीन साल की
इससे तो अच्छा था कि दो-चार साल और रुक
जाते।

फ़ैसला देने को,
अपने आप फ़ैसला हो जाता
(अस्सी के तो हो ही गए थे)
वैसे अभी चांस दे ही रखा है।

1 comment:

हिन्दी में कमेंट्स लिखने के लिए साइड-बार में दिए गए लिंक का प्रयोग करें